Mindblown: a blog about philosophy.

  • इंडिया की खबरों को जानना

    इंडिया देश जो कि एक विशाल देश है, वहां कई तरह की खबरें हर दिन घटित होती हैं। यहां की खबरें राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दोनों प्रकार की होती हैं और इसलिए इंडिया की खबरों को जानना बहुत महत्वपूर्ण होता है। इंडिया के विभिन्न क्षेत्रों में होने वाली घटनाओं, राजनीतिक मामलों, आर्थिक विकास की स्थिति, क्रिकेट…

  • शेख चिल्ली

    माना जाता है कि सूफी संत अब्द-उर-रहीम, जिन्हें अब्द-उई-करीम और अब्द-उर- रज़ाक के नाम से भी जाना जाता था उन्ही का प्रसिद्द नाम शेख चिल्ली पड़ा। उनकी मौजूदगी 1650 AD के आस-पास की मानी जाती है और हरयाणा में उनका एक मकबरा भी बनाभारत में शेख चिल्ली को एक मजेदार कैरेक्टर के रूप में देख…

  • बेटे के लिए

    थोर्ड़ ओवराज अपने पैरिश का सबसे अधिक संपन्न और प्रभावशाली व्यक्ति था।एक दिन अचानक बहुत जल्दी में वह पादरी के पास पहुंचे और बोले – मेरे लड़का हुआ है और उसका नामकरण-संस्कार और मैं उसका कराना चाहता हूँ।पादरी ने पूछा उसका नाम क्या रखेंगे ?मैं अपने अपने पिता के नाम पर – फिन !और गवाह…

  • मृदा उत्पत्ति एवं निर्माण

    मृदा एक प्रमुख पारिस्थितिक कारक है जिस में पौधों की वृद्धि के लिए आवश्यक सभी पोषक पदार्थ जैसे खनिज तत्व एवं जल उपस्थित होते हैं मृदा का निर्माण कठोर चट्टानों के निश्चलन के फल स्वरुप होता है मृदा के निर्माण की संपूर्ण प्रक्रिया को निम्नलिखित दो चरणों में बांटा गया है निश्चलन एवं मृदा जनन…

  • समुदाय के लक्षण

    इसके अंतर्गत उन लक्षणों का अध्ययन किया जाता है जिसकी सहायता से उसे समुदाय का संपूर्ण विश्लेषण संभव होता है इसमें दो महत्वपूर्ण लक्षण आते हैं 1 परीणात्मक लक्षण इसके अंतर्गत आवृत्ति घनत्व भूलता आवरण का अध्ययन किया जाता है 2 गुणात्मक लक्षण इसके अंतर्गत पौधों के गुणात्मक लक्षणों का अध्ययन किया जाता है गुणात्मक…

  • रोन कीयर का वर्गीकरण एवं जैव रूप

    बहुत से पर्यावरण विद् ने पौधों को उनके जैव रूप आवास स्थलों अथवा अन्य लक्षणों के आधार पर वर्गीकृत किया है किसी पौधे के कैक जाकर संरचना एवं बाहर रूपरेखा को ही जैव रूप कहते हैं दानिश वनस्पति के क्रिश्चियन रोनाकिर के अनुसार प्रतिकूल वातावरण पौधों की विभिन्न क्रियो जैसे वृद्धि आदि को अत्यधिक प्रभावित…

  • पोषण के प्रकार

    विभिन्न जीव-जन विभिन्न प्रकार के पोषण करते हैं भोजन प्राप्त करने की विधि के आधार पर पोषण को निम्नलिखित प्रकारों में वर्गीकृत किया गया है स्वपोषी पोषण ऐसा पोषण जिसमें जीव अपने लिए आवश्यक सभी कार्बनिक पदार्थ का संश्लेषण स्वयं करते हैं स्वपोषी पोषण कहलाता है तथा ऐसे जीवन को स्वपोषी जीव रहते हैं स्वपोषी…

  • प्रगोतिहासिक काल

    इतिहास का विभाजन प्रगितिहासिक या इतिहास, आध इतिहास वा इतिहास को तीन भगो में बाटा गया है। जिस काल में मनुष्य ने घटनाओं का कोई लिखित विवरण किया है उसे प्रागैतिहासिक काल ज्ञानी मानव का प्रवेश इस धरती पर आज से लगभग 30 से 40 हजार वर्ष पूर्ण हो गया था पूर्व पाषाण युग या…

  • Hello world!

    Welcome to WordPress. This is your first post. Edit or delete it, then start writing!

Got any book recommendations?